मंत्री जी का बारि‍श में ढहा घर, मलबे से खुद ही नि‍काला सामान, देखें PHOTOS

Lucknow
बहराइच. भारी बारि‍श से रवि‍वार को यूपी सरकार के समाज कल्‍याण राज्‍यमंत्री बंशीधर बौद्ध का कच्‍चा मकान (झोपड़ी) ढह गया। वहां रखा सामान मलबे में दब गया। बारि‍श रुकने पर राज्यमंत्री ने पत्नी और बेटों की मदद से जैसे-तैसे मलबा हटाकर सामान निकाला। सूचना पाकर राजस्वकर्मी पहुंचे, लेकिन बंशीधर ने मदद लेने से इनकार कर दिया। 1 लाख से अधिक के नुकसान का अनुमान है। क्‍या है पूरी घटना…
– कतर्नियाघाट संरक्षित वन क्षेत्र की नईबस्ती टेड़िया गांव में प्रदेश सरकार के समाज कल्याण राज्यमंत्री बंशीधर बौद्ध का कच्‍चा मकान है।
– उस मकान में वह पत्नी और बेटों के साथ रहते हैं।
– गुरुवार को वे लखनऊ से लौटे थे। रवि‍वार को अपने घर के एक हि‍स्‍से में बैठे थे।
– अचानक भारी वर्षा शुरू हो गई। रवि‍वार शाम करीब 7 बजे तेज आवाज के साथ उनके मकान की दीवार ढह गई।
– संयोग से वहां कोई नहीं था। सामान और अनाज रखा था। सबकुछ मलबे में दब गया।
– इस मामले में तहसील कार्यालय को सूचना नहीं दी गई।

राज्‍यमंत्री ने क्‍या कि‍या

– बारि‍श रुकने पर राज्यमंत्री बंशीधर ने पत्नी लज्जावती, पुत्र अवन, दीपक और समर के सहयोग से मलबे को हटाकर दबा हुआ सामान निकाला।
– इसके बाद घर के अंदर हुए जलभराव को निकालने के लिए खुद नाली बनाई।
– राज्यमंत्री ने कहा कि छप्पर, दीवार और कुछ सामान का नुकसान हुआ है। करीब 1 लाख की संपत्ति का नुकसान हुआ है।
हालचाल जानने पहुंचे लोग
– जब गांव और आसपास के इलाके में राज्यमंत्री के मकान ढहने की सूचना मिली तो मि‍लने वालों का तांता लग गया।
– इलाके के राजस्‍वकर्मी पहुंचे, लेकि‍न बंशीधर ने मदद लेने से इनकार कर दि‍या।
– उन्‍होंने कहा, ‘मंत्री जी क्लेम करेंगे तो मुआवजा दिया जाएगा।’
– ‘क्षेत्रीय लेखपाल को जांच के निर्देश दिए गए हैं।’
कैसे मि‍लता है मुआवजा
– दैवीय आपदा राहत के मामले में पीड़ित व्यक्ति को क्लेम करना होता है।
– फिर राजस्व टीम से जांच कराई जाती है।
– राज्यमंत्री के क्लेम करने पर राजस्वकर्मियों से रिपोर्ट मांगी जाएगी। इसके बाद मुआवजे की कार्रवाई होगी।

Leave a Reply