आतंकियों के निशाने पर दिल्ली? हरियाणा में ब्लास्ट की घटनाओं से एजेंसियां अलर्ट

Crime

नई दिल्ली. हरियाणा में कुछ दिनों पहले एक रोडवेज बस में हुए ब्लास्ट के अलावा इसी साल पानीपत में दो खाली ट्रेनों में हुए धमाके एक जैसे पाए गए हैं। जांच एजेंसियों का मानना है कि इन धमाकों में किसी एक ही ग्रुप या शख्स का हाथ है और उसकी प्लानिंग किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की हो सकती है। इससे पहले इस ग्रुप/शख्स ने ये तीनों धमाके एक ट्रायल रन के तौर पर किए हैं। तीनों धमाकों को आतंकी घटना माना गया है। हरियाणा असली टारगेट नहीं…bus_b_1464523988

– एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जांच एजेंसियों का यह भी मानना है कि ग्रुप/शख्स का असली टारगेट हरियाणा नहीं है।
– ‘ज्यादा लोगों को निशाना बनाने के लिए वह ग्रुप या शख्स जल्द ही अगला ब्लास्ट दिल्ली में कर सकता है।’
– बता दें कि हरियाणा गवर्नमेंट ने बस में ब्लास्ट की जांच के लिए SIT बनाई है।
– एक सेंट्रल सिक्युरिटी इस्टैब्लिशमेंट ऑफिसर के मुताबिक, बम की जांच से यह पता चला कि उसमें छर्रों का इस्तेमाल नहीं किया गया। इसका मतलब है कि बम बनाने वाले नहीं चाहते थे कि मौतें हों।
– रोडवेज बस में हुए ब्लास्ट में 8 लोग सिर्फ जख्मी हुए थे।
– ‘बम की जांच से यह भी पता चला है कि उसमें पोटैशियम क्लोरेट, सल्फर और अमोनियम पाउडर मौजूद थे।’

जांच एजेंसी को मिले हैं अहम सबूत

– ऑफिसर के मुताबिक, बस में ब्लास्ट हुए बम को एक पीले रंग के पॉलीबैग में रखा गया था
– ‘बैग में थाई लैंग्वेज में लिखा एक मैसेज भी मिला है। इसके जरिए जांच एजेंसियों को कन्फ्यूज करने की कोशिश की गई है। ये एक अहम सबूत है।’
– ‘तीनों ही ब्लास्ट में 12 वॉल्ट की बैटरी इस्तेमाल की गई है।’
– ‘ऐसा लगता है कि एक्सप्लोसिव्स फायरक्रैकर्स से लिए गए। इससे ब्लास्ट में शामिल लोगों तक पहुंचने की उम्मीद है।’
– जांच एजेंसियों का यह भी मानना है कि इन ब्लास्ट्स में शामिल ग्रुप या शख्स दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर एरिया के आसपास का हो सकता है।
– क्योंकि जिन ट्रेनों और बस को निशाना बनाया गया है वे दिल्ली के आसपास और हरियाणा से होकर आ रही थीं।
– एक इंटेलिजेंस ऑफिशियल का कहना है कि ये इंटरनेट की मदद से तैयार किए गए बम नहीं थे। ऐसा लगता है कि बम बनाने वाले ने प्रॉपर ट्रेनिंग ली होगी।

इन धमाकों से हुआनई दिल्ली. हरियाणा में कुछ दिनों पहले एक रोडवेज बस में हुए ब्लास्ट के अलावा इसी साल पानीपत में दो खाली ट्रेनों में हुए धमाके एक जैसे पाए गए हैं। जांच एजेंसियों का मानना है कि इन धमाकों में किसी एक ही ग्रुप या शख्स का हाथ है और उसकी प्लानिंग किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की हो सकती है। इससे पहले इस ग्रुप/शख्स ने ये तीनों धमाके एक ट्रायल रन के तौर पर किए हैं। तीनों धमाकों को आतंकी घटना माना गया है। हरियाणा असली टारगेट नहीं…

– एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जांच एजेंसियों का यह भी मानना है कि ग्रुप/शख्स का असली टारगेट हरियाणा नहीं है।
– ‘ज्यादा लोगों को निशाना बनाने के लिए वह ग्रुप या शख्स जल्द ही अगला ब्लास्ट दिल्ली में कर सकता है।’
– बता दें कि हरियाणा गवर्नमेंट ने बस में ब्लास्ट की जांच के लिए SIT बनाई है।
– एक सेंट्रल सिक्युरिटी इस्टैब्लिशमेंट ऑफिसर के मुताबिक, बम की जांच से यह पता चला कि उसमें छर्रों का इस्तेमाल नहीं किया गया। इसका मतलब है कि बम बनाने वाले नहीं चाहते थे कि मौतें हों।
– रोडवेज बस में हुए ब्लास्ट में 8 लोग सिर्फ जख्मी हुए थे।
– ‘बम की जांच से यह भी पता चला है कि उसमें पोटैशियम क्लोरेट, सल्फर और अमोनियम पाउडर मौजूद थे।’

जांच एजेंसी को मिले हैं अहम सबूत

– ऑफिसर के मुताबिक, बस में ब्लास्ट हुए बम को एक पीले रंग के पॉलीबैग में रखा गया था
– ‘बैग में थाई लैंग्वेज में लिखा एक मैसेज भी मिला है। इसके जरिए जांच एजेंसियों को कन्फ्यूज करने की कोशिश की गई है। ये एक अहम सबूत है।’
– ‘तीनों ही ब्लास्ट में 12 वॉल्ट की बैटरी इस्तेमाल की गई है।’
– ‘ऐसा लगता है कि एक्सप्लोसिव्स फायरक्रैकर्स से लिए गए। इससे ब्लास्ट में शामिल लोगों तक पहुंचने की उम्मीद है।’
– जांच एजेंसियों का यह भी मानना है कि इन ब्लास्ट्स में शामिल ग्रुप या शख्स दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर एरिया के आसपास का हो सकता है।
– क्योंकि जिन ट्रेनों और बस को निशाना बनाया गया है वे दिल्ली के आसपास और हरियाणा से होकर आ रही थीं।
– एक इंटेलिजेंस ऑफिशियल का कहना है कि ये इंटरनेट की मदद से तैयार किए गए बम नहीं थे। ऐसा लगता है कि बम बनाने वाले ने प्रॉपर ट्रेनिंग ली होगी।

इन धमाकों से हुआ शक

– बीते गुरुवार कुरक्षेत्र जिले में पीपली के पास हरियाणा रोडवेज की बस में धमाका हुआ था।
– एक जैसे इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस का इस्तेमाल इसी साल पानीपत में खाली ट्रेनों में हुए दो धमाकों में हुआ था।
– 13 मई को दिल्ली से पानीपत जा रही एक ईएमयू ट्रेन में ब्लास्ट हुआ था।
– इससे पहले 15 जनवरी को पानीपत से अंबाला के लिए निकली एक पैसेंजर ट्रेन में लो इन्टेनसिटी का ब्लास्ट हुआ था। शक

– बीते गुरुवार कुरक्षेत्र जिले में पीपली के पास हरियाणा रोडवेज की बस में धमाका हुआ था।
– एक जैसे इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस का इस्तेमाल इसी साल पानीपत में खाली ट्रेनों में हुए दो धमाकों में हुआ था।
– 13 मई को दिल्ली से पानीपत जा रही एक ईएमयू ट्रेन में ब्लास्ट हुआ था।
– इससे पहले 15 जनवरी को पानीपत से अंबाला के लिए निकली एक पैसेंजर ट्रेन में लो इन्टेनसिटी का ब्लास्ट हुआ था।

Leave a Reply