MP में एम्स पहुंचे हेल्थ मिनिस्टर पर स्याही फेंकी, बदइंतजामी से नाराज थे मेडिकल स्टूडेंट्स

Bhopal
भोपाल. यहां एम्स का दौरा करने पहुंचे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा पर प्रदर्शन कर रहे छात्रों के बीच से किसी ने स्याही फेंक दी। स्टूडेंट्स एम्स में बदइंतजामी से नाराज थे। इस दौरान मंत्री के ड्राइवर ने हड़बड़ी में गाड़ी आगे बढ़ा दी, जिससे MBBS की दो स्टूडेंट्स घायल हो गईं। बाद में नड्डा ने कहा, “पहले जो भी हुआ हो, वो मुझे नहीं पता। लेकिन अब सारी परेशानियां हल हो जाएंगी।” इसलिए नाराज थे स्टूडेंट्स…
– नड्डा ने शनिवार को भोपाल स्थित एम्स का दौरा किया। इस दौरान उन्हें छात्रों के विरोध का सामना करना पड़ा।
– एम्स में असुविधाओं से नाराज स्टूडेंट्स ने नड्डा पर स्याही फेंकी और नारेबाजी की।
– स्टूडेंट्स एम्स में नये डायरेक्टर को अप्वाइंट करने, फैकल्टी, अन्य स्टाफ की कमी को दूर करने और इन्फ्रास्ट्रक्चर, लैब की समस्याएं दूर करने की मांग कर रहे थे।
– स्टूडेंट्स का कहना था कि 2013-14 में जब से उन्होंने MBBS में एडमिशन लिया है, तब से वे प्रॉब्लम से जूझ रहे हैं।
– बता दें कि यहां के प्रभारी डायरेक्टर नितिन एम. नागरकर रायपुर एम्स की जिम्मेदारी भी संभाल रहे हैं।
स्टूडेंट्स के पैर पर चढ़ी गाड़ी
– स्याही फेंकने के बाद हंगामा बढ़ते देख ड्राइवर ने हड़बड़ी में गाड़ी आगे बढ़ा दी।
– इसके चलते मौके पर मौजूद MBBS की दो स्टूडेंट्स अंजलि कृष्णा और इज्या के पैर पर गाड़ी चढ़ गई। उन्हें फौरन अस्पताल ले जाया गया। इसके बाद मंत्री वहां से निकल गए।
‘जो भी मंत्री आता है, सिर्फ प्रॉमिस करके चला जाता है’
– जब नड्डा ने नाराज स्टूडेंट्स से कहा कि पहले जो भी हुआ हो, उन्हें नहीं मालूम, लेकिन अब वे सारी परेशानियों को शॉर्टआउट कर रहे हैं।
– इस पर स्टूडेंट्स ने जवाब दिया कि यहां जो भी मंत्री आता है, वो सिर्फ प्रॉमिस करके चला जाता है। जुलाई में केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते भी एम्स आए थे। उन्होंने जो प्रॉमिस किए थे, वे पूरे नहीं हुए। लैब, इक्विपमेंट्स की कमी के चलते प्रैक्टिकल नहीं कर पा रहे हैं। इस पर नड्डा ने स्टूडेंट्स को धैर्य बनाए रखने की नसीहत दी।
बीते 13 साल में 4 केंद्रीय मंत्रियों का दौरा
– भोपाल एम्स को 13 साल से आश्वासनों मिल रहे हैं। यही कारण है कि अस्पताल में वो फैसिलिटी नहीं मिल सकीं जो हॉस्पिटल को शुरुआती सालों में ही मिल जानी थीं।
– इन 13 सालों में चार केंद्रीय मंत्री एम्स का दौरा कर चुके हैं। इन सभी ने 6 महीने में बेहतर सुविधाओं का वादा किया। लेकिन गए तो पलट कर नहीं देखा।
नड्डा के आने से पहले आनन-फानन में काम
– नड्डा के आने की जानकारी लगते ही प्रबंधन ने एक दिन में ही जर्जर सड़क को दुरुस्त कर दिया।
– वहीं 8 घंटे में गाइनेकोलॉजी डिपार्टमेंट में एक डिलीवरी वार्ड बना दिया गया।
– हालात ये हैं कि यहां पर आज तक न तो एक भी डिलीवरी हुई है और न ही पहले बैच के स्टूडेंट्स को किसी तरह की ट्रेनिंग दी गई। यह तब है जब एक नवंबर को पहला बैच निकलने वाला है।

Leave a Reply