32 दिन बाद कश्मीर हिंसा पर मोदी बोले- कुछ गुमराह लोग घाटी को नुकसान पहुंचा रहे हैं, लैपटॉप-किताब की जगह बच्चों के हाथ में पत्थर

Kashmir
आलीराजपुर (एमपी).नरेंद्र मोदी मंगलवार को शहीद चंद्रशेखर आजाद की जन्मस्थली भाभरा पहुंचे। आजाद को श्रद्धांजलि दी। ‘आजादी 70 साल- याद करो कुर्बानी’ प्रोग्राम की शुरुआत की। एक सभा के दौरान कश्मीर हिंसा पर उन्होंने 32 दिन बाद चुप्पी तोड़ी। कहा- ”पीड़ा है कि जिन बालकों के हाथ में लैपटॉप, किताब, बैट होना चाहिए, मन में सपने होने चाहिए उनके हाथ में पत्थर होते हैं।” एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान भी साथ हैं। कश्मीर को लेकर और क्या बोले मोदी…
– मोदी ने कहा, ”हर हिंदुस्तानी का सपना होता है कि कभी न कभी कश्मीर जाएं।”
– ”वहां कुछ मुठ्ठी भर लोग, गुमराह लोग कश्मीर की महान परंपरा को नुकसान पहुंचा रहे हैं।”
– ”अटल वाजपेयी उन्होंने एक मार्ग अपनाया था। देश के आजादी के दीवानों ने जो ताकत देश को दी है वही, ताकत कश्मीर को भी दी है।”
– ”जो ताकत गर हिंदुस्तानी महसूस करता है। वह ताकत कश्मीरी भी महसूस करता है। कश्मीर को हम नई ऊंचाईयों पर लेना चाहते हैं।”
– ”मैं जम्मू-कश्मीर की सरकार को बधाई देता हूं कि उनकी कोशिशों से अमरनाथ यात्रा चल रही है।”
– ”कश्मीर के यूथ को आवाहान करता हूं कि आईए मेरे भाईयों मैं कश्मीर को स्वर्ग बनाएं।”
मोदी ने आजादी पर क्या कहा
– ”उन्होंने अपना सबकुछ अपने देश के लिए समर्पित कर दिया।”
– ”हमारा दायित्व बनता है कि हमारे लिए आजादी दिलाने वाले इन महापुरुषों को याद करते रहे हैं। उन्होंने जिस भारत का सपना देखा। उन्होंने जो संकल्प लिया था। आज हम उसे पूरा करने का संकल्प लें।”
यहां पहली बार हुआ किसी पीएम का दौरा
– यह इलाका गुजरात की सीमा से सटा है। यहां पहली बार कोई प्रधानमंत्री पहुंचा है।
– बता दें कि शिवराज सरकार ने आजाद के सम्मान में भाभरा का नाम बदलकर ‘चंद्रशेखर आजाद नगर’ कर दिया था।
– वहीं, इस कस्बे के जिस मकान में 23 जुलाई 1906 को आजाद का जन्म हुआ था, उसे स्मारक के रूप में विकसित कर ‘आजाद स्मृति मंदिर’ का नाम दिया था।
– इस स्मारक में छोटा-सा म्यूजिम भी है।
क्या है आजादी 70 साल याद करो कुर्बानी प्रोग्राम ?
– केंद्र सरकार आजादी की 70वीं और भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं एनिवर्सरी को ‘जरा याद करो कुर्बानी’ के रूप में मना रही है।
– सोमवार को बीजेपी संसदीय दल की मीटिंग के बाद केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम वैंकेया नायडू ने बताया था – “75 मंत्रियों को देश भर में ऐसी डेढ़ सौ जगहों पर जाने के लिए कहा गया है, जहां या तो शहीदों के स्मारक हैं या उनकी जन्मस्थली है।”
– “राजनाथ सिंह झारखंड जाएंगे। अरुण जेटली जलियांवाला बाग में होने वाले प्रोग्राम में शामिल होंगे। अमित शाह 13 अगस्त को काकोरी में सभा करेंगे।”
– “पीएम की इसकी शुरुआत आजाद की जन्मस्थली भाभरा से करेंगे।”
नायडू ने कहा था- 15 अगस्त से एक हफ्ते की तिरंगा यात्रा
– नायडू ने बताया था- “इस अभियान का मकसद यह भावना विकसित करना है कि राष्ट्र पहले है, व्यक्ति बाद में।”
– “यह लोगों को स्वतंत्रता सेनानियों के आजादी की लडाई में दिए गए महान बलिदान की याद दिलाएगा।”
– “सांसदों और विधायकों से अपने क्षेत्रों में तिरंगा यात्रा में भाग लेने को कहा गया है।”

Leave a Reply