G20: PAK का नाम लिए बिना मोदी ने कहा- साउथ एशिया का सिर्फ एक देश हमारे रीजन में आतंक फैला रहा है

International
हांगझोऊ (चीन). जी20 समिट में सोमवार को आतंकवाद के मसले पर नरेंद्र मोदी ने कड़ा रूख दिखाया। पाकिस्तान का नाम लिए बगैर उस पर निशाना साधा। मोदी ने कहा- ”भारत ने टेरेरिज्म के मसले पर जीरो टॉलरेंस पॉलिसी अपना रखी है। एक टेरेरिस्ट, टेरेरिस्ट हाेता है। साउथ एशिया में सिर्फ एक देश हमारे रीजन में आतंकवाद को उसके एजेंट्स के जरिए फैला रहा है।” मोदी ने कहा- आतंक फैलाने वालों पर बंदिशें लगाएं…
– मोदी ने जी20 समिट के आखिरी सेशन में कहा, ”हमें उम्मीद है कि इंटरनेशनल कम्युनिटी आतंकवाद से निपटने के लिए एकसाथ खड़ी होगी और एक आवाज में बात करेगी। आतंकवाद को सपोर्ट और स्पॉन्सर करने वालों को अलग-थलग किया जाना चाहिए। उन पर बंदिशें लगानी चाहिए। उन्हें कोई इनाम नहीं मिलना चाहिए।’’
– मोदी ने कहा कि आतंकवाद और हिंसा की बढ़ती ताकतें चुनौती पैदा कर रही हैं। कुछ देश ऐसे हैं जो आतंकवाद का अपनी स्टेट पॉलिसी के तौर पर इस्तेमाल करते हैं।
– ”भारत आतंकवाद को लेकर जीरो टॉलरेंस की पॉलिसी अपनाता है। क्योंकि जीरो टॉलरेंस से कम कुछ भी काफी नहीं है। हमारे लिए आतंकवादी, सिर्फ आतंकवादी ही है।’’
मोदी बोले- ब्लैक मनी छिपाने वाले सेफ हेवन खत्म हों
– “जी-20 देशों को संधियों और पॉलिसियों की कमियों को दूर करने के लिए काम करना होगा।”
– इस बीच, चीन ने भी भारत की इकोनॉमी खासकर एनर्जी के क्षेत्र में सरकार के कामों को लेकर मोदी की तारीफ की।
ब्रिटिश पीएम से मिले मोदी
– इससे पहले मोदी ने पहली बार ब्रिटिश पीएम थेरेसा मे से मुलाकात की।
– बता दें कि ब्रिटेन के यूरोपीय यूनियन (EU) से हटने के फैसले के बाद डेविड कैमरन ने पीएम पोस्ट छोड़ दी थी। इसके बाद थेरेसा पीएम चुनी गई थीं।
– विदेश मंत्रालय के स्पोक्सपर्सन विकास स्वरूप के मुताबिक, ‘पीएम ने कहा कि ईयू से अलग होने के बाद भी ब्रिटेन हमारे लिए उसी तरह अहम रहेगा जैसा पहले था।’
– ”पीएम ने मे से ट्रेड और इन्वेस्टमेंट बढ़ाने के सुझाव भी मांगे थे। मे ने कहा कि ब्रिटेन मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया जैसे प्रोजेक्ट्स में सक्रिय भागीदारी करना चाहता है। मोदी ने मे को भारत आने का न्योता भी दिया है।”
NSG पर ऑस्ट्रेलिया ने भी किया सपोर्ट
– मोदी ने रविवार को ऑस्ट्रेलिया के पीएम मैल्कम टर्नबुल से मुलाकात की। टर्नबुल ने भारत की एनएसजी में मेंबरशिप को लेकर भरोसा जताया। साथ ही, दोनों नेताओं की डिफेंस और सिक्युरिटी को-ऑपरेशन को लेकर भी बात हुई। मोदी ने ऑस्ट्रेलिया के NSG पर सपोर्ट को लेकर टर्नबुल का शुक्रिया अदा किया।
– स्पोक्सपर्सन विकास स्वरूप के मुताबिक, “ऑस्ट्रेलिया के पीएम ने एनएसजी में भारत की मेंबरशिप को लेकर सपोर्ट की बात कही है।”
– बता दें कि जून में सिओल में हुई NSG प्लेनरी की मीटिंग में चीन के विरोध के चलते भारत को मेंबरशिप नहीं मिल पाई थी।
जापान ने क्या कहा?
– एनएसजी में भारत की एंट्री को लेकर जापान की तरफ से ऑफिशियल कमेंट आया है।
– जापान की फॉरेन मिनिस्ट्री ने कहा, “भारत की एनएसजी में मौजूदगी से नॉन प्रोलिफिरेशन (परमाणु अप्रसार) को मदद मिलेगी।” चीन भारत के NPT पर साइन न करने के चलते एनएसजी मेंबरशिप का विरोध कर रहा है।
– जापान के विदेश मंत्रालय के प्रेस एंड पब्लिक डिप्लोमेसी के डायरेक्टर जनरल यासुहीसा कावामूरा के मुताबिक, “हम मामले पर भारत से लगातार चर्चा कर रहे हैं। हमारा मानना है कि भारत को एनएनजी मेंबरशिप मिलने से नॉन प्रोलिफिरेशन रिजीम को मजबूती मिलेगी। हम इसके लिए दूसरे मेंबर देशों से भी बात करेंगे। हम भारत से NPT पर साइन करने के लिए भी बात करेंगे।”
– चीन भारत की मेंबरशिप का लगातार विरोध कर रहा है। इस मुद्दे पर कावामूरा ने कुछ भी कहने से मना कर दिया। बता दें कावामूरा भारत में जापान के डिप्टी चीफ ऑफ मिशन रह चुके हैं।

Leave a Reply