घाटी में भड़की हिंसा के बीच फंसे 40 श्रद्धालु, घरवाले परेशान

National
बहराइच. हिजबुल कमांडर की मौत के बाद कश्मीर में भड़की हिंसा से अमरनाथ यात्रा पर बहराइच के 40 यात्री फंस गए हैं। 35 यात्रियों के जत्थे ने पटनीटॉप से वापसी कर शिव खोरी में अपना डेरा बना लिया है। पयागपुर के एक युवक की यात्रा से वापस लौटने के बाद कोई सूचना नहीं मिली है। इससे परिवार के लोग काफी परेशान हैं। वहीं, कई यात्रियों ने कश्मीर के बिगड़े हालात को देखते हुए अपनी यात्रा स्थगित कर दी है।
बुरहान के एकाउंटर के बाद भड़की हिंसा
बहराइच के पयागपुर, महसी और बहराइच शहर से कई यात्री अमरनाथ यात्रा के लिए रवाना हुए हैं। पयागपुर के कई लोग यात्रा पर रवाना हुए थे। बब्बू शर्मा ने बताया कि हिजबुल कमांडर बुरहान की मुठभेड़ में हुई मौत के बाद कश्मीर में हिंसा भड़क उठी है। सभी लोग पटनीटॉप पहुंच चुके थे। लेकिन, भड़के हालात को देखते हुए सभी ने वापसी कर ली है। अब सभी शिवखोरी में एक कैंप में डेरा बनाए हुए हैं। हालात के सामान्य होने का इंतजार किया जा रहा है।
परिवार के लोग परेशान
पयागपुर के वैनी गांव निवासी सुनील कुमार मिश्रा की यात्रा के लिए एक सप्ताह पूर्व रवाना हुआ था। संचार सेवाएं ध्वस्त होने के कारण उसकी वापसी के संबंध में अभी तक परिवार के लोगों को कोई सूचना नहीं मिली है। परिवार के लोग काफी परेशान हैं।
इन लोगों ने निरस्त की यात्रा
रुपईडीहा बाजार निवासी किशोरी विश्वकर्मा, सोनू कौशल, मुनीस नरायन शर्मा, धर्मेंद्र कौशल, शेरसिंह कसौंधन समेत लगभग एक दर्जन लोगों ने अमरनाथ की यात्रा पर जाने की तैयारी की थी। इन लोगों ने घाटी में भड़की हिंसा को देखते हुए अपनी यात्रा को स्थगित कर दिया है।
दिल्ली से होता है रजिस्ट्रेशन
अपर जिलाधिकारी विद्याशंकर सिंह का कहना है कि यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालु का रजिस्ट्रेशन दिल्ली में होता है। ऐसे में बहराइच में कोई सूचना भी नहीं होगी। इसलिए यहां से कंट्रोल रूम आदि स्थापित करने की कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है।

Leave a Reply