गिड़गिड़ाने पर भी गरीब आदिवासी को हॉस्पिटल ने नहीं दी एंबुलेंस, पत्नी की डेड बॉडी कंधे पर लाद तय किया 10 KM रास्ता, बिलखती रही बेटी

Bhuwneshwar
भुवनेश्वर.ओडिशा के सरकारी हॉस्पिटल से एम्बुलेंस और मॉर्चरी वैन नहीं मिलने पर एक शख्स को पत्नी की डेड बॉडी मजबूरन कंधे पर लेकर जाना पड़ा। आदिवासी कम्युनिटी के दाना माझी ने इस तरह 10 किलोमीटर तक का रास्ता तय किया। इस दौरान उसकी 12 साल की बेटी भी रोती-बिलखती साथ चल रही थी। इस घटना का वीडियो वायरल हो गया है। बता दें कि नवीन पटनायक सरकार ने गरीबों की मदद के लिए इसी साल फरवरी में ‘महापर्याण’ स्कीम लॉन्च की थी। इसके तहत सरकारी हॉस्पिटल से डेड बॉडी को घर तक पहुंचाने के लिए फ्री ट्रांसपोर्टेशन का इंतजाम है। मांझी के पास नहीं थे किराए के पैसे…
– इंसानियत को शर्मसार करने वाली ये घटना कालाहांडी जिले की है। बुधवार को एक लोकल टीवी चैनल ने इसका वीडियो जारी किया।
– मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बेहद गरीब मांझी के पास एम्बुलेंस के पेमेंट के लिए पैसे नहीं थे और हॉस्पिटल अथॉरिटी ने मदद से इनकार कर दिया।
– मांझी की पत्नी अमंग देवी (42) का टीबी का इलाज चल रहा था। भवानीपटना के हॉस्पिटल में उसकी मौत हो गई।
अफसरों के सामने गिड़गिड़ाया था मांझी
दाना मांझी ने कहा, ”हॉस्पिटल के अफसर बोले कि हमारे पास कोई गाड़ी नहीं है। मैं उनके सामने गिड़गिड़ाया और कहा कि गरीब आदमी हूं।”
– ”किसी प्राइवेट गाड़ी में पत्नी की डेड बॉडी लेकर जाने के लिए मेरे पास पैसे नहीं थे। अफसरों ने इसे अनसुना कर दिया और कहा कि हम मदद नहीं कर सकते।”
– इसके बाद मांझी ने पत्नी के बॉडी को कपड़े में लपेटा और 60 किलोमीटर दूर अपने गांव मेलघारा जाने का फैसला कर लिया।
– मांझी के कंधे पर पत्नी की बॉडी और बिलखती बेटी को देखकर कुछ लोगों ने इसकी खबर कलेक्टर को दी। इसके बाद मांझी को एम्बुलेंस मुहैया कराई गई।
क्या कहते हैं जिम्मेदार?
– कलेक्टर बरुंडा डी. ने कहा, ”मामले की खबर मिलते ही सीएमओ से बातकर एम्बुलेंस मुहैया कराई।”
– ”तहसीलदार ने मांझी को हरिश्चंद्र योजना के तहत 2000 और रेडक्रॉस सोसाइटी ने 10 हजार रुपए की मदद दी है।”
– कलेक्टर ने मामले के लिए जिम्मेदार अफसरों पर सख्त कार्रवाई की भी बात कही है।
– बीजेडी के सांसद कैलाश सिंह देव ने ट्वीट कर कहा है- “मैंने लोकल मिनिस्टर से घटना की जानकारी लेने को कहा है। साथ ही कार्रवाई करने को भी कहा है।”

Leave a Reply