गुरुग्राम में ‘महाजाम’: बारिश के बाद 23 घंटे तक 20 KM इलाके में फंसी रही गाड़ियां, लोगों को सड़कों पर गुजारनी पड़ी रात

Gurugram
गुड़गांव/मुंबई/बेंगलुरु/पटना/गुवाहाटी.बारिश की वजह से देश के 5 राज्यों में हालात खराब हैं। हरियाणा के गुड़गांव में गुरुवार शाम करीब तीन घंटे बारिश हुई। 20.1 MM बारिश के कारण सड़कों पर 4 फीट तक पानी जमा हो गया। NH-8 और सोहना रोड का हाल सबसे बुरा रहा। 23 घंटे तक दिल्ली-जयपुर रोड पर 20 किमी हिस्से में भारी जाम रहा। गुरुवार को ऑफिस के बाद लोग घर नहीं लौट पाए। उन्हें सड़क पर भी रात गुजारनी पड़ी। जाम खुल चुका है, लेकिन गाड़ियां अभी भी रेंग कर चल रही हैं। उधर, मुंबई में जगह-जगह पानी भरने से लोकल ट्रेन, फ्लाइट सर्विसेस पर असर पड़ा। बेंगलुरु में भी भारी बारिश के बाद बीच शहर में नाव चली। लोग सड़कों पर मछलियां पकड़ते देखे गए। असम-बिहार के कई जिले बाढ़ से प्रभावित हैं। क्यों लगा जाम…
– गुड़गांव में शाम 4 बजे के आसपास तेज बारिश के बाद बादशाहपुर के पास एक नाला टूटने से पानी एक्सप्रेस वे तक आ गया। बाद में पानी सोहना रोड और शहर के अन्य इलाकों में भर गया।
– खेड़कीदौला टोल से लेकर इफको चौक तक के सभी फ्लाईओवरों के नीचे दो फीट तक बारिश का पानी जमा हो जाने से एक्सप्रेस-वे की सर्विस लेन पर गाड़ियां फंस गईं।
– सोहना रोड पर राजीव चौक से बादशाहपुर के बीच 7 किलोमीटर का सफर पूरा करने के लिए लोगों को दो घंटे से ज्यादा वक्त लगा। इस रोड पर वाटर लॉगिंग के चलते कई बाइकसवार गिर पड़े।
– NH-8 पर दिल्ली से जयपुर के मेन कैरिज-वे का 20 किमी के हिस्से में जाम देखा गया। सबसे बुरा हाल हीरो होंडा चौक पर रहा।
– नाइट शिफ्ट करने वाले इम्प्लॉइज ऑफिस नहीं जा सके। दिन की ड्यूटी खत्म कर लोग घर नहीं पहुंच पाए। कुछ लोग पानी में फंसी गाड़ियां छोड़कर चले गए। लेकिन ज्यादातर लोगों को जाम के चलते रात सड़कों पर ही गुजारनी पड़ी।
– ट्विटर यूजर्स ने फोटोज पोस्ट करते हुए लिखा कि एक दिन में गुड़गांव वेनिस बन गया है।
– जाम को लेकर सियासी बयानबाजी भी हुई। राहुल गांधी और आप नेता मनीष सिसौदिया और आशुतोष ने जाम के लिए बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया।
गुड़गांव पुलिस को करना पड़ा ट्वीट
जब जाम नहीं हटा तो शुक्रवार सुबह गुड़गांव पुलिस ने ट्वीट कर कहा है, “NH-8 पर जाम है। पॉसिबल हो तो लोग लोग यहां आने से बचें।
– एडमिनिस्ट्रेशन ने 29-30 जुलाई को सभी स्कूलों की छुट्टी का एलान कर दिया।
– सीएम एमएल खट्टर गुड़गांव नहीं पहुंच सके। मौसम खराब होने के चलते के चलते अफसरों ने उनके हेलिकॉप्टर को उड़ान भरने से रोक दिया गया।
– ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर नितिन गडकरी ने NHAI टीम को गुड़गांव की ट्रैफिक रिपोर्ट देने को कहा है।
बारिश-बाढ़ से ऐसे बेहाल हैं बाकी 4 राज्य
1. बिहार: बाढ़ से 26 मौतें, 10 जिलों में 22 लाख प्रभावित
– नेपाल से आ रहा पानी मुसीबत की वजह तो था ही, बिहार में बारिश ने हालात और खराब कर दिए। सिर्फ पटना में 44 मिमी बारिश हुई।
– इस बरसात की वजह से गोपालगंज और सहरसा जिले में भी बाढ़ का पानी घुस गया। 10 जिलों में बाढ़ है। 22 लाख लोगों पर असर पड़ा है। 26 मौतें हो चुकी हैं।
– पूर्णिया, किशनगंज, अररिया, दरभंगा, मधेपुरा, भागलपुर, कटिहार, सहरसा, सुपौल और गोपालगंज में बाढ़ है। कोशी समेत 5 से ज्यादा नदियां उफान पर हैं।
– बिहार में पिछले 24 घंटे के दौरान बिजली गिरने से चार महिलाओं समेत 6 की मौत हो गई। इस सीजन में बिजली गिरने से मरने वालों का आंकड़ा 82 तक पहुंच गया है।
2. महाराष्ट्र: कहीं जाम तो कहीं फ्लाइट-ट्रेन लेट
– मुंबई और पुणे में हो लगातार हो रही बारिश से लोगों को दिक्कतें हो रही हैं।
– मुंबई के अंधेरी में वेस्टर्न एक्सप्रेस हाईवे पर जाम लग गया। बारिश के चलते एक की मौत भी हुई है। ईस्टर्न एक्सप्रेस वे पर सायन की ओर जाने वाला रूट जाम हो गया।
– बांद्रा-वर्ली सी लिंक पर भी गाड़ियों की रफ्तार धीमी देखी गई। बारिश की वजह से फ्लाइट्स देर से चलीं।
– सेंट्रल रेलवे, वेस्टर्न रेलवे और हार्बर रूट पर चलने वाली लोकल ट्रेन 15 से 20 मिनट की देरी से चलीं। लोकल स्टेशनों पर भारी भीड़ देखी गई।
3. असम: बारिश से 21 मौतें, 20 लाख लोगों पर असर
– असम में बाढ़ से 21 लोगों की मौत हो चुकी है। 20 लाख लोग इससे प्रभावित हैं। यहां के मोरीगांव, जोरहट, डिब्रूगढ़ में सड़क से संपर्क टूट चुका है। कोकराझार, बोनाईगांव और गोलाघाट में भी पानी रिहाइशी इलाकों तक घुस आया है।
– राज्य के 18 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं। NDRF-SDRF की टीम लोगों को सेफ जगहों पर पहुंचा रही हैं।
4. कर्नाटक: बेंगलुरु में चलानी पड़ी नाव
– बेंगलुरु में भारी बारिश के बाद फायर ब्रिगेड डिपार्टमेंट ने सड़क पर बोट चलाकर लोगों को रेस्क्यू किया। बारिश के चलते गिरे पेड़ों ने लोगों की परेशानी और बढ़ाई। बारिश के बाद लोग बेंगलुरु की सड़कों पर जाल लेकर मछलियां पकड़ते देखे गए।
– बायोकॉन इंडस्ट्रीज की ओनर किरण मजूमदार शॉ ने ट्वीट किया, ‘बेंगलुरु, को बेंगलेकू कहना चाहिए। बारिश ने पूरे शहर को झील में तब्दील कर दिया है। जाम से लोग परेशान हो रहे हैं।’

Leave a Reply