दादरी कांड: फॉरेंसिक रिपोर्ट में खुलासा- अखलाक के घर फ्रिज में था गाय का मांस

Crime, Politics
नई दिल्ली/नोएडा.ग्रेटर नोएडा के चर्चित दादरी मामले में नया खुलासा हुआ है। मथुरा की फॉरेंसिक लैब रिपोर्ट से कंफर्म हुआ है कि मोहम्मद अखलाक के फ्रिज से लिए गए मीट के सैंपल गाय या बछड़े के ही थे। बता दें कि बीफ खाने की अफवाह फैलने के बाद पिछले साल सितंबर में भीड़ ने अखलाक (50) के घर पर हमला बोल दिया था। जिसमें उसकी मौत हो गई थी। इससे पहले यूपी सरकार ने अपनी रिपोर्ट में सैंपल को बकरी या बकरे का मांस बताया था।
dadri_1464692916
– दादरी केस के 8 आरोपियों की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में चल रही है।
– एक आरोपी के वकील रामशरण नागर ने कोर्ट से मथुरा लैब की रिपोर्ट मुहैया कराने की गुजारिश की थी।
– जिसका सरकारी वकील ने विरोध किया, लेकिन कोर्ट ने नई रिपोर्ट पब्लिक करने का फैसला किया।
– अब सोशल मीडिया में जो रिपोर्ट सामने आई है, उस पर गौतमबुद्धनगर जिला कोर्ट की मुहर लगी है।
– नोएडा पुलिस की जांच के दौरान मथुरा फॉरेंसिक लैब से मिली रिपोर्ट में अखलाक के फ्रिज में गोमांस होने का साफ तौर पर जिक्र है।
– बता दें कि अक्टूबर, 2015 में यूपी सरकार की एक रिपोर्ट में इस सैंपल को बकरी का मांस बताया गया था।
जांच के लिए मथुरा लैब में भेजे गए थे सैंपल
– दादरी केस की जांच कर रही नोएडा पुलिस ने अखलाक के फ्रिज से मिले सैंपल मथुरा की फॉरेंसिक लैब भेजे थे।
– मथुरा लैब की ये रिपोर्ट अप्रैल, 2016 में फास्ट ट्रैक कोर्ट में सबमिट हुई थी।
– कोर्ट से जारी लैब रिपोर्ट मंगलवार को एक अंग्रेजी वेबसाइट पर भी सामने आई है।
यूपी के डीजीपी ने क्या कहा?
डीजीपी जावेद अहमद ने कहा, ”पहले की जांच से ऐसा लग रहा था कि अखलाक के फ्रिज में मटन ही मिला था, लेकिन अब नई लैब रिपोर्ट से साफ हो गया है कि गाय या बछड़े का मांस घर में मौजूद था।”
– हालांकि अखलाक की फैमिली ने मथुरा की लैब रिपोर्ट को खारिज करते हुए कहा है कि घटना वाले दिन उनके घर में किसी ने बीफ या गाय का मांस नहीं खाया था।
इन्टॉलरेंस-बीफ बैन को लेकर लौटाए गए थे अवॉर्ड
– दादरी की घटना को इन्टॉलरेंस और बीफ बैन से जोड़कर काफी विरोध किया गया था।
– मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कई साहित्यकारों, फिल्म मेकर्स समेत कई लोगों ने सरकारी अवॉर्ड लौटाए थे।
– बता दें कि दादरी के बिसहाड़ा गांव में अखलाक के घर हमला करने के आरोप में 2 नाबालिग समेत कुल 8 लोग अरेस्ट हुए थे।
– गांव में कई दिनों तक तनाव के हालात रहे थे और पीएसी की कंपनी तैनात करनी पड़ी थी।
– यूपी सरकार ने पीड़ित फैमिली को 10 लाख रुपए के मुआवजे का एलान किया था।

Leave a Reply