केजरीवाल के प्रिंसिपल सेक्रेटरी समेत 5 अरेस्ट, 50 करोड़ के घोटाले का आरोप

National
नई दिल्ली. अरविंद केजरीवाल के प्रिंसिपल सेक्रेटरी राजेंद्र कुमार समेत 5 लोगों को सीबीआई ने सोमवार को अरेस्ट कर लिया। इन लोगों पर 50 करोड़ रुपए से ज्यादा के सरकारी ठेकों में घूस लेने और भ्रष्टाचार के आरोप हैं। गिरफ्तार लोगों में केजरीवाल के दफ्तर में डिप्टी सेक्रेटरी तरुण शर्मा और एक प्राइवेट कंपनी के दो डायरेक्टर संदीप कुमार, दिनेश कुमार और एक अन्य शख्स अशोक कुमार हैं। इन पांचों को सीबीआई ने पहले पूछताछ के लिए हेडक्वार्टर बुलाया था। इसी के बाद इन्हें अरेस्ट किया गया।करप्शन और पद के दुरुपयोग का है आरोप…
– सीबीआई प्रवक्ता आरके गौड़ ने बताया कि इन लोगों को मंगलवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा।
– सीबीआई के मुताबिक राजेंद्र कुमार ने इन लोगों के साथ मिलकर एंडेवर नाम की कंपनी को फायदा पहुंचाया।
– सीबीआई ने राजेंद्र कुमार पर पद के दुरुपयोग और प्रिवेंशन ऑफ करप्शन के तहत मामला दर्ज किया है।
– बता दें, वरिष्ठ अधिकारी और दिल्ली डायलॉग कमिशन के पूर्व सचिव आशीष जोशी ने एसीबी (एंटी करप्शन ब्रांच) चीफ एमके मीणा को लेटर लिखा था। इसमें राजेंद्र कुमार को भ्रष्ट बताते हुए जांच की मांग की थी।
– इस शिकायत पर सीबीआई ने दिसंबर में राजेंद्र कुमार के दफ्तर पर छापा मारा था।
– सूत्रों ने दावा किया कि कार्रवाई में भ्रष्टाचार के ठोस सबूत मिले हैं।
– गिरफ्तारी के बाद दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने केंद्र पर सीबीआई के जरिए दिल्ली सरकार को अन स्टेबल करने का आरोप भी लगाया।
क्या हैं आरोप ?
– राजेंद्र कुमार और तरुण शर्मा ने पद का दुरुपयोग कर एंडेवर कंपनी को ठेके दिलाए।
– ठेके दिलाने के लिए कंपनी से रिश्वत ली गई।
– 2006 में करीब 50 करोड़ रुपए का घोटाला हुआ। कुमार इसके मास्टरमाइंड के तौर पर उभरे हैं।
– उन्होंने अलग-अलग विभागों में रहते हुए अपने लोगों के नाम बनाई कई फर्जी कंपनियों को फायदा पहुंचाया।
किस कंपनी को फायदा पहुंचा गया
– सीबीआई के मुताबिक राजेंद्र कुमार ने एंडेवर्स सिस्टम्स नाम की कंपनी को फायदा पहुंचाया।
– यह कंपनी 2006 में बनी थी।
– दिनेश कुमार गुप्ता और संदीप कुमार इसके निदेशक हैं। इन दोनों को भी अरेस्ट किया गया है।
– यह कंपनी सॉफ्टवेयर और सॉल्यूशन मुहैया कराती है। कंपनी को ठेके देने में पक्षपात किया गया।
कौन हैं राजेंद्र कुमार ?
– राजेंद्र कुमार का जन्म 16 दिसंबर 1966 को बिहार में हुआ था।
– आईआईटी से पढ़ाई के बाद वे भारतीय प्रशासनिक सेवा में आए। दिल्ली से पहले वे मिजोरम और अंडमान-निकोबार में अफसर के रूप में काम कर चुके हैं।
– 2007-08 में उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए भी काम किया।
– राजेंद्र कुमार ने एशियन इंस्टीटयूट ऑफ़ मैनेजमेंट, मनीला से डेवलपमेंट मैनेजमेंट में कोर्स किया है।
– उन्हें पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन के लिए 2008 में पीएम अवॉर्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है। यह अवॉर्ड मैनेजमेंट इन्फॉर्मेशन सिस्टम पर उनके काम के लिए दिया गया था।
पंजाब, गोवा और गुजरात में आप की कामयाबी से घबराए मोदी- सिसोदिया
– सीबीआई की कार्रवाई के बाद मनीष सिसोदिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके मोदी सरकार पर घटिया राजनीति करने का आरोप लगाया।
– सिसोदिया ने कहा, ” पिछले 23 साल के इतिहास में केंद्र सरकार कभी भी इतने निचले स्तर पर नहीं उतरी। जितनी वर्तमान सरकार आ गई है।”
– ”पंजाब और गोवा में जिस तरह का माहौल आम आदमी पार्टी के फेवर में बना है। उससे डरी हुई मोदी सरकार दिल्ली सरकार को पैरालाइज करने की कोशिश कर रही है।”
– ”आज ही दिल्ली सरकार से 5 सीनियर ऑफिसर्स को ट्रांसफर किया गया।”
– ”सीएम आफिस से दो अधिकारियों राजेंद्र कुमार और तरुण शर्मा को अरेस्ट किया गया है। जबकि एडिशनल सेक्रेटरी का ट्रान्सफर कर दिया गया।”
– ”ये सीएम ऑफिस को पैलराइज करने की कोशिश है। टाइमिंग पर भी सवाल है।”
– सिसोदिया ने कहा कि केंद्र सरकार ने दिल्ली के खिलाफ वॉर छेड़ दिया है। मोदी दिल्ली के लोगों से बदला ले रहे हैं।
टैंकर घोटाले में दिल्ली सरकार के मंत्री से भी हुई पूछताछ
– चार सौ करोड़ रुपए के टैंकर घोटाला मामले में चल रही जांच के सिलसिले में एसीबी ने सोमवार को दिल्ली के जल मंत्री कपिल मिश्रा से पूछताछ की।
– मिश्रा अपने सपोर्ट्स के साथ ब्यूरो के दफ्तर पहुंचे। उन्होंने पूछताछ से पहले ट्वीट कर कहा कि वह सिर्फ बहाना हैं, वास्तविक निशाना तो दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल हैं।
– इस मामले में केजरीवाल और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है।

Leave a Reply