यूपी: एनडीए से अलग हुआ अपना दल एसपी से कर सकता है गठबंधन

National
लखनऊ.अपना दल और समाजवादी पार्टी हाथ मिला सकते हैं। दोनों पार्टियों के बीच पहले दौर की बातचीत दिल्ली में हो चुकी है। ऐसा कहा जा रहा है कि अपना दल की चीफ कृष्णा पटेल और शिवपाल यादव के बीच जल्द ही मीटिंग होने वाली है। इसमें आगे की स्ट्रैटजी तय होगी। बता दें कि अनुप्रिया पटेल के मोदी सरकार में मंत्री बनने के बाद से मां कृष्णा बेटी से नाराज हैं। इसके बाद ही कृष्णा ने एनडीए से अलग होने का फैसला लिया था। अपना दल ने 2017 में 150 सीटों पर चुनाव लड़ने का टारगेट बनाया है। अनुप्रिया पटेल बनीं मोदी सरकार में मंत्री…
– बता दें, बीते 6 जुलाई को मोदी कैबिनेट के विस्‍तार में यूपी से 3 लोगों को जगह मिली थी, जिनमें अनुप्रिया पटेल भी शामिल थीं।
– उन्‍हें स्वास्थ्य राज्यमंत्री बनाया गया। इससे पहले अनुप्रिया की अमित शाह से मुलाकात हुई थी।
– अनुप्रिया के मंत्री बनने के 55 घंटे के अंदर अपना दल ने बीजेपी से अलायंस तोड़ दिया था।
– अनुप्रिया के मंत्री बनते ही मां कृष्‍णा पटेल ने कहा था, ”जो मां की नहीं हुई, वो मोदी की क्या होगी। वो मेरी पार्टी में नहीं हैं, उनके बारे में क्या बात करना। मैंने उन्हें पिछले साल ही निकाल दिया था। बीजेपी ने उन्‍हें जिस लालच से जोड़ा है, वो जल्द ही साफ हो जाएगा।”
– बता दें, अपना दल में वर्चस्व को लेकर अनुप्रिया की अपनी बहन पल्लवी पटेल से जंग छिड़ी हुई थी, जिसमें मां कृष्णा पल्लवी के साथ थीं।
बीजेपी को हो सकता है नुकसान?
– अपना दल का असर पूर्वांचल में अच्छा-खासा है।
– यूपी में कुर्मियों के 8% वोट हैं। अगर इसमें कोइरी, काछी, कुशवाहा जैसी जातियां और जोड़ दें तो पूर्वांचल के बनारस, चंदौली, मिर्जापुर, सोनभद्र, इलाहाबाद, कानपुर और कानपुर देहात की सीटों पर इनके वोट बड़ा प्रभाव डाल सकते हैं।
– इसलिए 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने गठबंधन किया था, जिसका असर भी दिखा और बीजेपी 73 सीटों पर जीती।
– अगर यह गठबंधन होता है तो इस इलाके में बीजेपी को नुकसान हो सकता है।
कृष्‍णा पटेल ने कहा था- बीजेपी भरोसे लायक नहीं
– कृष्‍णा पटेल ने कहा कि बीजेपी भरोसे के लायक नहीं है।
– नेशनल वर्किंग कमेटी की बैठक में बीजेपी से अलायंस तोड़ने का फैसला किया गया।
– कृष्णा पटेल ने कहा कि वि‍धानसभा चुनाव में भी अब अपना दल बीजेपी को सपोर्ट नहीं करेगा।
– पार्टी का टारगेट विधानसभा की 150 सीटों पर चुनाव लड़ने का है। इसके लि‍ए ए और बी कैटेगरी में सीटों को बांटा गया है।

Leave a Reply